geminid meteor shower | geminid meteor shower 2018 india: गूगल अक्सर किसी खास दिन को अपने डूडल के जरिए समर्पित करता है। ऐसे ही आज गूगल ने अपने डूडल के जरिए एस्ट्रॉयड की महत्वता को प्रदर्शित किया है। हर साल आकाश में इस उल्कावृष्टि के शानदार नजारे का सबको बेसब्री से इंतजार रहता है। Geminid Meteor Shower (जेमिनिड मीटियोर शॉवर) 2018, 13 दिसंबर की रात में आकाश में दिखाई देगा, जो आकाश में उल्कावृष्टि के शानदार नजारे को पेश करेगा। उल्काओं (Meteor) की बारिश को ‘जेमिनिड मीटियोर शॉवर’ कहा जाता है।

geminid meteor shower | geminid meteor shower 2018 india

कैसे होती है ये उल्कावृष्टि : दरअसल यह उल्कावृष्टि ‘फैथॉन’ (Phaethon) नाम के एस्ट्रॉयड के कारण होती है. दिसंबर में पृथ्वी का रास्ता, 3200 ‘फैथॉन’ एस्टरॉयड के रास्ते को काटता है. इस एस्टरॉयड का कभी पहले किसी वस्तु से टकराव हुआ था, जिसके कारण इसके कण पृथ्वी के रास्ते के इस मोड़ पर मौजूद होते हैं.

geminid meteor shower

हालांकि अगर आपको इस नजारे को देखना है तो आपको इसके लिए शहर से दूर किसी खुली जगह पर जाना होगा जहां आपको इस शानदार उल्कावृष्टि को देख सकते हैं।

geminid meteor shower 2018 india

कैसे देख सकते हैं ये नजारा?

जो लोग इस नजारे को देखना चाहते हैं उन्हें शहर से दूर किसी खुली जगह पर जाना होगा. इसमें खास बात ये है कि आपको इस नजारे को देखने के लिए किसी टेलीस्कोप और बायनोकुलर की जरूरत नहीं होगी. अगर मौसम साफ रहा तो आप इस नजारे को आसानी से देख सकेंगे.

अगर आज मौसम साफ रहा तो आप इस जेमिनिड मीटियोर शॉवर को आसानी से देख पाएंगे। आपको इस नजारे को देखने के लिए किसी टेलीस्कोप और बायनोकुलर की जरूरत नहीं होगी। 9 बजे के बाद इस नजारे को देखा जा सकता है।

इनमें से छोटे कण गुजरती पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश करते हैं और जल उठते हैं. इससे ऐसा मालूम होता है जैसे सितारे टूट कर गिर रहे हो.

For Complete about geminid meteor shower